मातृ दिवस क्यों मनाया जाता है ?

matra diwas kyon manate hein

 



दोस्तों आज हम आपके साथ मातृ दिवस के कुछ ऐसे तथ्य शेयर करने जा रहे हैं जिन्हें जानकार आप भी हैरत में पड़ जाएँगे | माताओं को समर्पित यह दिवस काफी महत्वपूर्ण है |  जिस तरह हम अपने और खास दिनों को चाव से मनाते हैं वैसे ही मदर्स डे को भी हमे अच्छे से मनाना चाहिए |

पश्चिमी सभ्यता –

पश्चिमी स्भयता की नकल में हम ये दिन मना तो रहे हैं पर यह कोई नहीं जानता कि इसे मनाने का क्या कारण है ? क्योंकि पश्चिमी लोग बड़े परिवारों की जगह छोटे परिवार में रहना पसंद करते हैं | काम में व्यस्त होने की वजह से वह इन दिनों को विशेष महत्ता देते हैं | रोज न सही साल में तो वह इस बहाने से अपने परिजनों के संपर्क में रहते हैं |

पाश्चात्य सभ्यता-

माँ को हर भाषा में लगभग एक समान ही बोला जाता है | बच्चा पैदा होने के बाद मम्मा लगभग एक समान बोला जाता है | क्या आप जानते हैं की माँ शब्द को हर मातृभाषा में ही बोला जाता है |

प्राचीन काल में सयुंक्त परिवार होते थे सभी लोग साथ रहते थे | तब शायद मदर्स डे और फादर्स डे की इतनी महत्ता नहीं थी | पर आज कल के बदलते परिवेश में परिवार छोटे हो गए हैं और इस बदलते समय में युवा पीढ़ी का काम में व्यसत रहना इस दिन की महत्ता को और बढ़ा देता है |

क्या आप जानते हैं की मातृ दिवस हर बार एक निश्चित तिथि को ना होकर मई माह के दूसरे रविवार को आता है | इस बार 12 मई को मातृ दिवस मनाया जा रहा है |

 



“उसके होंठो पर कभी बददुआ नहीं होती |

एक माँ ही है जो हमसे कभी खफा नहीं होती”

 

मैक्सिको में मदर्स डे -Mother’s day in makcsico

मैक्सिको में तो माताओं के स्वागत के लिए एक महीना पहले बैंड बुक कर दिये जाते हैं “डाया डी लास मदर्स”  के नाम से वहाँ 10 मई को मदर्स डे मनाया जाता है | सुबह उठकर बच्चे अपनी माताओं को वहाँ के पारंपरिक गीत गाकर उठाया जाता है |

 

अमेरिका में मातृ दिवस – Mother’s day in America

  • मातृ दिवस एना जार्विस  द्वारा अमेरिका के वेस्ट वर्जीनिया में 1908 में परिवार के आपस के संबन्धों को सम्मान देने के लिए मनाया जाता है |
  • एना स्व्यम तो कभी मां नहीं बन सकीं पर यह कह सकते हैं कि ‘मदर्स-डे’ का जो वर्तमान स्वरूप हमें मिला है उसकी मां वे ही थीं। हालांकि उन्होंने इसके कमर्शियलाइजेशन का भरपूर विरोध किया था। एना ने इन दिनों के लिए अवकाश की गुजारिश की |

 

वुडरो विल्सन का मातृ प्रेम-

  • 1914 में अमेरिका के राष्ट्रपति वुडरो विल्सन के द्वारा बनाए गए कानून के अनुसार मई माह के दूसरे रविवार को यह दिन माताओं के सम्मान में मनाया जाता है |
  • इस दिन को उन्होने नेशनल हॉली-डे घोषित कर दिया। दरअसल, वह अपनी मां को बहुत प्यार करते थे।
  • उन्होंने एक पत्र में अपनी पत्नी को बताया था , ‘मुझे मम्माज बॉय’ बनने में सुकून मिलता है | और वूमेनहुड (नारीत्व) के लिए प्रेम मुझमें अपनी मां से ही आया है। और विश्व भर में इसे एक त्योहार की तरह मनाया जाने लगा |
  • बुके व ग्रीटिंग खरीदने के लिए भी इस दिन अमेरिका में काफी खर्चा किया जाता है | यह बुके खरीदने का सबसे बड़ा दिन बन गया है |
  • अमेरिका में एक अनुमान के मुताबिक वेलेंटाइन डे के बाद मदर्स डे ही मनाया जाता है | और रेस्टोरेन्ट की बिक्री सबसे ज्यादा इन्ही दिनों में होती है |

 

चीन में मातृ दिवस – Mother’s day in China

1977 में चीन में यह दिवस गरीब माताओं की सेवा व मदद के लिए मनाया जाता है गुलनार के फूल काफी मात्रा में बिकते हैं  यह फूल उपहार के रूप दिये जाते हैं | संयुक्त राष्ट्र में इसका प्रादुर्भाव हुआ है इसके बावजूद चीन के लोग इस छुट्टी को बिना किसी हिचक के मनाते हैं | क्योंकि यह अवकाश बुजुर्गों  के सम्मान व माता पिता के प्रति प्रेम के प्रतीक के रूप में मनाया जाता है | आज कल यह दिवस मेंग मू  जो की हकिऊ की माँ की याद में मनाया जाता है | ह्ंकिऊ कम्युनिस्ट पार्टी के सदस्य थे |अब यहाँ गुलनार की जगह सफ़ेद लिली उफार में दिये जाते हैं | जो बच्चे अपना घर छोड़ कर जाते हैं तब उनकी माताओं द्वारा यह पौधा लगाया जाता था |

भारत में मातृ दिवस – Mother’s day in India

कस्तूरबा गांधी जो की महात्मा गांधी जी की पत्नी थी भारत सरकार ने कस्तूरबा गांधी जी की जयंती पर राष्ट्रीय सुरक्षित मातृत्व दिवस मनाने की घोषणा की थी | 11 अप्रैल 2003 को कस्तूरबा गांधी जी की जयंती पर ये फैसला लिया गया | इसमें डबल्यूआरएआई ने इस दिशा में जागरूकता लाने में पहल की थी |




 

तो दोस्तों कैसा लगा हमारा आज का आर्टिकल हमारे द्वारा दी गई जानकारी अच्छी लगी तो इसे जरूर लाइक करें | और इसे शेयर करना ना भूलें |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *